Monday, 27 March 2017

एहसास तुम्हारा

सुनो,
तुम जब हवा सी बहती हो,
मेरे रेत से बिखरे हुए चित्त को
किसी गहरे, ग़ूढ भंवर मे बदल जाती हो |

सुनो,
तुम जब हवा सी बहती हो,
मेरे काठ से कड़े और ढीठ शरीर को
शरारत से झुका, और प्यार से  झुला जाती हो |

सुनो,
तुम जब हवा सी बहती हो,
मेरे अंदर की शांत, निस्तेज लौ को
किसी तीक्ष्ण, धधकती ज्वाला में बदल जाती हो |

सुनो,
तुम जब हवा सी बहती हो,
मेरे असंसक्त, निरुदेश्य व्यक्तित्व को
अभिप्रायपूर्ण, सुसंबद्ध इंसान मे बदल जाती हो |

Tuesday, 14 February 2017

एक कविता वात्सल्य के नाम

आखें, 
मानो चकमकाके,
सारी दुनिया को एक ही झपक मे 
निहार लेना चाहती हों |

बाहें, 
मानो छटपटा के,
सारी दुनिया की खुशियाँ 
बटोर लेना चाहती हों |

मुस्कुराहट, 
मानो जागनागाके,
सारी दुनिया का आकर्षण 
पा लेना चाहती हों |

आवाज़, 
मधु छलका के, 
सारी दुनिया को 
डूबा देना चाहती हो |

दो महीने की हो तुम, 
क्या कोई परी हो,
और सबको अपना गुलाम बना लेना चाहती हो?

Sunday, 13 November 2016

सृजन

मैं
यहाँ अपनी धृष्टता में,
शब्दों को उधेड़-बुनकर
सोच-वोच कर किसी तरह
कागज़ और कलम से
एक कविता उकेरने की कोशिश कर रही हूँ|

वो मकड़ी,
वहाँ अपनी धृष्टता में
जीवों की समीपता को देख-परखकर
थूक-वूक कर किसी तरह

ध्यान और लगन से
एक जाल बनाने की कोशिश कर रही है|

वो बालक
वहाँ अपनी धृष्टता में
सवाल की गंभीरता को जान कर
लिख-मिटा कर किसी तरह

प्रतिबद्धता और परिश्रम से
गणित के सवाल बनाने की कोशिश कर रहा है|

वो नदी
वहाँ अपनी धृष्टता में
पहाड़ की छाती को नाप-समझकर
बह -वह कर किसी तरह
हठ और बुलंदी से
एक रास्ता बनाने की कोशिश कर रही है|

वो तबायफ
वहाँ अपनी धृष्टता में
ग्राहकों की जेबें देख-भाँपकर
मटक -वटक कर किसी तरह

आधे-पौने मन से
अपना चूल्हा बनाने की कोशिश कर रही है|

हम सब,
अपनी-अपनी धृष्टता में
लिखते-मिटाते, बनते-बिगड़ते
लगे हुए हैं, सृजन मे
हम सब, कवि ही तो हैं|


Wednesday, 26 October 2016

अंतहीन उम्मीदें

मैं रोज़ सुबह रूकती हूँ
पांच मिनट के सिग्नल के लिए 
मधुबन चौक पर 

वो फिरकी वाली आती है 
टेढ़ा- मेढा  मुँह  बनाती है 
फिरकी खरीदने की बात कहती है 
और चली जाती है 

हफ़्तों बीत जाते हैं 
मैं कपडे नहीं दोहराती 
और वो  मुझे पहचान नहीं पाती 

पर मैं उसे पहचानती हूँ 
उसके कपडे , उसकी आवाज़ 
उसकी मुखाकृतियाँ , उसके बोल 
हफ़्तों नहीं बदलते 
कभी नहीं बदलते 
अंतहीन 

सिग्नल हरा हो जाता है 
मैं खुली सड़क पर निकल जाती हूँ 
हवा को चीरते हुए 
मन में उम्मीदें होती हैं 
अंतहीन 

एक दिन मेरी दुपहिया 
चारपहिये में बदल जाएगी 
फिर और परिष्कृत हो जाएगी 
फिर चालक भी होगा 
अंतहीन 

और मैं कपडे नहीं दोहराऊंगी 
महीनों नहीं , सालों नहीं 
जूते भी नहीं ,कभी नहीं 
अंतहीन 

कभी कभी फिरकी वाली के बारे में सोचती हूँ 
सिग्नल के हरा होते ही 
वो भी आज़ाद हो जाती होगी 
मेरी तरह उम्मीदों में खो जाती होगी 

क्या  होती होंगी उसकी उम्मीदें 
रोज़ दस  फिरकियां बिक जाएं 
या पचास , या सौ 
अंतहीन 

अंतहीन उम्मीदें 
जोड़ देती हैं
एक निगमित, व्यस्त  लड़की के मन को 
एक परित्यक्त, निर्धन लड़की के मन से

Tuesday, 11 October 2016

Preferences

If there is a possibility 

of talks over silences
of trees over buildings
of a "Cup of tea" over "Monster shakes"
of dinning hall over lavish restaurants
of bike rides over the luxury cars
of the smaller town and the greener grass
of the handmade gifts over platinum and diamonds
of being a family over being good friends
of satisfactions over ambitions
of sweet candies over chewing gums
of more fulfillment over lesser promises
of skirts as well as scarves
of "Knock not required"
of "Perfectly warm temperature"
of denials over unclear acceptances
of exceptions from the real world

of a prodigious, clean mirror, where I can see myself, and through it,


You belong to me

Monday, 3 October 2016

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी

ग़ालिब साहब की मशहूर शायरी के सम्मान में नाचीज़ की लिखी कुछ पंक्तियाँ -

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले |

तमन्ना थी तेरे कंधे पे सिर अपना टिका दू मैं,
यही हो रात मेरी, दिन भी मेरा, सुबह - ओ - शब गुज़रे |

बहुत होता सुकून जो नामंज़ूर -ए -इश्क़ या खुदा कह दे,
के दिल के टूट पर भी अक्स से ना तुम निकले ना हम निकले |

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले |




Tuesday, 27 September 2016

आधा - पौना

सुबह - सुबह जब होश ने आकर नींद को अलविदा कहा, तो ज़हेन में एक ख्वाब चल रहा था, ख्वाब तो अधूरा ही रह गया, या शायद पौना हो चुका हो |

सोचा ख्वाब पूरा करें, नींद मे ना हो पाया तो हक़ीकत मे ही सही| पूरे दिन कोशिश की, जी- तोड़ | पर आधा-पौना ख्वाब, कभी हक़ीक़त मे पूरा हो सकता है? रात को फिर ज़हेन कुछ चलने लगा, यही उधड़ी सी आधी पौनी कविता :-


आधी - पौनी सी रात है,
आधा - पौना सा साथ है,
आधा - पौना सब इधर- उधर, आधी - पौनी सी बात है |

आधा - पौना सा वादा है,
जो खुद से अभी निभाना है,
आधी - पौनी सी बातें हैं, जो खुद से करते जाना है |

आधे - पौने से किस्से में,
इस जिंदगी को समाना है,
आधी - पौनी सी नींदों में, नये ख्वाबों को सजाना है |

आधा - पौना सा दर्द कोई,
इस दर्द में जलते जाना है,
आधी - पौनी सी खुशियों में, खिलखिलाहट को बसाना है |

आधे - पौने से सुर हैं काई,
आधे -पौने से बोल हैं,
आधा - पौना सब मिला-जुला, आधा - पौना एक गाना है |

 

पुनश्च : कविता भी आधी ही है, या शायद पौनी हो चुकी है